जैन इंडिया का परिचय:-

                             राजेन्द्र विधा प्रकाशन  के सम्पादक स्व•सेठ रमणलाल जी लुणावत की प्रेरणा एवं मार्गदर्शन से जैन इंडिया कि शुरुआत २२ जुलाई २०१३ को बामनिया , रतलाम (मध्यप्रदेश) से हुई।

                     

                    सकल जैन समाज को जोड़े रखने एवं दादा जी के सपने को पूरा करने के मकसद से कम उम्र में ही शुभम् लुणावत ने मूर्तिपूजक, स्थानकवासी , दिगम्बर और तेरापंथ को अलग न समझते हुए सभी सम्प्रदाय को एक माला में पिरोने के भाव से जैन इंडिया के नाम से तकनीकी युग का सर्वाधिक प्रचलित साफ्टवेयर व्हाटसप (Whats app)  पर ग्रुप  बनाकर जैन समाज के भाई-बहनों को जोड़ने का प्रभाव प्रारम्भ कर दिया।

                   किसी भी संस्था/संगठन को विधिवत सुचारु रूप से चलाने के लिये आशीर्वाद कि महती आवश्यकता होती हैं।तो प्रेम आशीर्वाद २२ फरवरी २०१४ को गौंड़ल सम्प्रदाय के मधुर भाषी पूज्य एकता जी महासती जी ने देने का वचन दिया। जो आज दिन तक मिलता रहा है।

                          आज जैन इंडिया के साथ सैकडो आचार्य भगवंत,साधु -साध्वी जी भगवंत का आशीर्वाद बना हुआ है । जिनकी उचित प्रेरणा एवं सुझाव से नित नई ऊँचाईयो को छुने का प्रभाव जारी है।।।

      

जैन इंडिया के उद्देश्य:-

                           जैन इंडिया का मूल उद्देश्य सकल जैन समाज को एक माला के मनके की भाँती एक जूट करना हैं। जैन समाज के हितो की रक्षा के लिए हर वो कदम उठाना हैं जिससे जिनशासन की गरिमा को बढ़ावा मिले।जैन समाज एवं समाज को गौरवान्वित करने वाली प्रतिभाओ को आगे लाना एवं उनकी विशेषताओ को हर जैन तक पहुँचाना है।

                     आज के व्यस्त जीवन में अपने समय की अनुकूलता के अनुसार घर बैठे भारतभर में जैन धर्म की विभिन्न कार्यकर्म  जैन संतो की वाणी, जिन शासन की गतिविधियो , जैन होने का फर्ज जैसी बातो से अवगत करवाना है।

 

जैन इंडिया की आज गतिविधियां :-

               जैन इंडिया न्यूज़ के व्हाट्स अप्प के माध्यम से जैन समाज के भाइयो - बहिनो तक निम्न लिखित कार्य किये जाते है।

* जैन इंडिया पंचांग :-  (रोज सुबह) पू.एकता जी म.सा.के आशीर्वाद से

*जैन इंडिया मोक्ष यात्रा  :- (रोज सुबह) पू. एकता जी म.सा. के आशीर्वाद से

* जैन इंडिया भक्तिरस :-  (जैन भजन) मदन हिरा जी परिहार मुम्बई द्वारा

* प्रवचन सागर :- अदिश मुनि पालीताणा

*वास्तु शास्त्र  :- क्रांतिकार संत पारस मुनि जी म.सा. 

*सपनो के राज :- करिश्मा जैन अहमदाबाद 

 *रमण प्रश्नावली :- आयुषी / वर्षा लुणावत

*बालवीर के सुविचार :-ऋषभ जैन हैदराबाद (उम्र 12 वर्ष)

 

विशेष गतिविधियां :-

1 . बेटी बचाओ अभियान (7 कड़ियों में)

2. साधुसंत की सुरक्षा पर ध्यान दो

3. साधू संत की वैयावच्च पर ध्यान दो।

 

जैन इंडिया के भविष्य की भावना :-

        जैन इंडिया के माध्यम से कुछ ऐसा कर गुजरने का भाव है की सकल जैन समाज के हर तहके में जैन इंडिया का ही नाम हो। जैन इंडिया का नाम सुनते ही जैन इंडिया से जुड़े हर भाई - बहनो को गर्व की अनुभूति हो।

               जिन शासन के हितों की रक्षा का हर वो कदम उठाना चाहेंगे जिससे न केवल आचार्य श्री , साधू-साध्वी जी भगवंत का आशीर्वाद हमें मिले अपितु समाज के हर व्यक्ति का आशीर्वाद हमें मिले और सबसे बड़ी सकल जैन जगत की एक आवाज बनकर ही रहे ऐसी कामना रखते है ।।। 

संचालक शुभम लुणावत

जय जिनेन्द्र

 
Website Operate & Manage by "Jain India head office " Completely .It is our help and contact center .